Home मध्य प्रदेश अन्य सतना अपहरण: फिरौती की रकम लेने के बाद भी दोनों मासूमों की...

सतना अपहरण: फिरौती की रकम लेने के बाद भी दोनों मासूमों की हत्या, कमलनाथ बोले दोषियों को होगी कड़ी सजा

354
0

मध्यप्रदेश के सतना जिले के चित्रकूट से 12 फरवरी को स्कूल बस से तेल कारोबारी के जुड़वां बेटों का अपहरण करने वाले बदमाशों ने फिरौती की रकम लेने के बाद भी दोनों मासूमों की हत्या कर दी। दोनों के शव उत्तर प्रदेश के बांदा जिले में मिले हैं। पुलिस जानकारी के मुताबिक मासूमों ने बदमाशों को पहचान लिया था। और अपनी पहचान छुपाने के लिए उन्होंने बच्चों के हाथ बांधकर उन्हें नदी में फेंक दिया। बांदा के बबेरू में यमुना नदी के घाट पर दोनों के शव मिले। मध्यप्रदेश सतना एसपी ने रविवार सुबह इसकी पुष्टि की है। उन्होंने बताया कि घटना में पुलिस ने 6 लोगों को गिरफ्तार किया है। इसमें 5 चित्रकूट के ग्रामोदय विश्वविद्यालय के छात्र बताए जा रहे हैं।

एक करोड़ मांगी थी फिरौती:-

दोनों भाइयों के अपहरण के बाद अपरहणकर्ताओं ने एक करोड़ रुपए की फिरौती की मांग की थी। जिसके बाद परिजनों ने 25 लाख रुपए दिए थे। पैसे मिलने के बाद आरोपियों ने अपनी पहचान छुपाने के लिए दोनों बच्चों की हत्या कर दी थी। हत्या के मामले में पुलिस ने छह लोगों को गिरफ्तार किया है। जानकारी के अनुसार, गिरफ्तार आरोपियों में 5 यूपी के रहने वाले हैं जबकि एक आरोपी मध्यप्रदेश का रहने वाला है। बता दे कि, 12 फरवरी के बाद से ही यूपी और मध्यप्रदेश की पुलिस आरोपिय़ों को पकड़ने के लिए 13 दिनों से कोशिश कर रहे थे उसके बाद भी पुलिस का सफलता नहीं मिली।

ऐसे हुआ था दोनों का अपहरण:-

घटना 12 फरवरी की है। सतना जिले के चित्रकूट में उस समय घटी जब दो बाइक सवार बदमाश ने स्कूल बस को रुकवाया और उस पर चढ़ गए। उसके बाद उन्होंने बंदूक की नोंक पर बच्चों का अपहरण किया। अपह्रत बच्चे पांच वर्षीय श्रेयांश और प्रियांश रावत जुड़वां भाई हैं और उनके पिता ब्रजेश रावत हिमशंकर विजय तेल के बड़े कारोबारी हैं।

मुख्यमंत्री बोले दोषियों को कड़ी सजा होगी:-

मुख्यमंत्री कमलनाथ ने चित्रकूट के सद्गुरु पब्लिक स्कूल से विगत दिनों अपहृत हुए दो जुड़वा भाई श्रेयांश और प्रियांश के सकुशल वापस नहीं मिलने की घटना को बेहद दुखद बताते हुए कहा कि इस घटना ने मुझे झकझोर दिया है। उन्होंने इस मामले में बच्चों के परिजनों से फोन पर चर्चा कर उन्हें सांत्वना दी और कहा कि निश्चित तौर पर यह घटना बेहद दुखद है मुझे खुद इस बात का अफसोस है कि हम बच्चों को सकुशल वापस नहीं ला पाए। मेरी पूरी सरकार इस दुख की घड़ी में आपके साथ खड़ी है। हम निश्चित ही दोषियों पर कड़ी से कड़ी कार्रवाई करेंगे। यह मैं आपको विश्वास दिलाता हूं।