Home मध्य प्रदेश जबलपुर महाशिवरात्रि: पानी कम होने पर भी माँ नर्मदा को होते है भगवान...

महाशिवरात्रि: पानी कम होने पर भी माँ नर्मदा को होते है भगवान नन्दिकेश्वर के दर्शन

178
0

सोमवार यानी आज महाशिवरात्रि का पर्व पूरे देश मे बड़े ही धूमधाम के साथ मनाया जा रहा है। पूरे मध्यप्रदेश के साथ-साथ संस्कारधानी में भी अल सुबह से धार्मिक अनुष्ठान किये जा रहे है। उज्जैन में बाबा महाकाल के दर्शन का सिलसिला तड़के 4 बजे से शुरू हुआ, वही ओम्कारेश्वर में भी भगवान शिव के दर्शन पाने लोगो का जान सैलाब उमड़ा है। ऐसा ही कुछ नजारा संस्कारधानी जबलपुर में भी भगवान शंकर की 76 फ़ीट ऊंची प्रतिमा कचनार सिटी में, पाट बाबा, गुप्तेश्वर महादेव, नन्दिकेश्वर मंदिर बरगी में भक्तों का तांता लगा हुआ है।

आपको बता दे कि, संस्कारधानी से करीब 40 किलोमीटर दूर बरगी नगर में माँ नर्मदा तट से 3 किलोमीटर की दूरी पर स्तिथ भगवान नन्दिकेश्वर का एक ऐसा प्राचीन मंदिर है जिसकी अपनी बड़ी मान्यता है। बताया जाता है कि, माँ नर्मदा की दूरी 3 किमो होने पर भी माता नर्मदा को भगवान नन्दिकेश्वर के दर्शन आसान से हो जाते है। खास बात यह कि पानी कम होने पर भी दर्शन में कोई व्यवधान नही होता। बता दे कि, ग्वालटेकरी पर स्तिथ इस मंदिर का निर्माण मप्र शासन द्वारा ग्राउंड लेवल से 399 मीटर ऊपर कराया था।

मंदिर के पुजारी ने बताया कि पूर्व में भगवान नन्दिकेश्वर प्राचीन मंदिर यहाँ से 12 किमो दूर मिडकी गांव में था। बरगी बांध के डूब क्षेत्र में आने के चलते इसे तत्कालीन पुजारी ने अधिकारियों से चर्चा कर यहाँ स्थापित करने की मांग की थी। नये मंदिर में 325 सीढ़ियां है, इसके अलावा यह वाहनों से भी आया जाता है। मन्दिर का रखरखाव नर्मदा घाटी प्राधिकरण करता है।