Home देश भारतीय वायुसेना की बढ़ी ताकत, ‘चिनूक’ हेलीकॉप्टर हुए शामिल, जाने क्या है...

भारतीय वायुसेना की बढ़ी ताकत, ‘चिनूक’ हेलीकॉप्टर हुए शामिल, जाने क्या है खासियत

120
0

सोमवार को भारतीय वायुसेना की ताकत उस समय और बढ़ गई जब सेना के बेड़े में 4 ‘चिनूक’ हेलीकॉप्टर को शामिल किया गया। अमेरिका से खरीदे गए ‘चिनूक’ हेलीकॉप्टर वही हेलीकॉप्टर है जब अमरीका ने पाकिस्तान में घुसकर इन्ही की सहायता से ओसामा बिन लादेन को मार गिराया था। भारतीय वायुसेना प्रमुख बी. एस. धनोआ ने कहा कि इन हेलीकॉप्टरों से साथ ही इसी साल शामिल होने जा रहे लड़ाकू विमान राफेल से वायुसेना को मजबूती मिलेगी। सोमवार को चंडीगढ़ एयरफोर्स स्टेशन पर एक समारोह में 4 चिनूक हेलीकॉप्टरों को वायुसेना में शामिल किया गया।

सोमवार को वायुसेना ने बताया कि अमेरिका से 1.5 अरब डॉलर में कुल 15 चिनूक हेलीकॉप्टर खरीदे गए हैं जिनमें से 4 की खेप सोमवार को चंडीगढ़ पहुंची है। चिनूक बहुउद्देश्यीय हेलीकॉप्टर है जिनका उपयोग दुर्गम और ज्यादा ऊंचाई वाले स्थानों पर जवानों, हथियारों, मशीनों तथा अन्य प्रकार की रक्षा सामग्री को ले जाने में किया जाएगा। इस हेलीकॉप्टर की खास बात यह है कि ये 20 हजार फीट की ऊंचाई तक उड़ान भर सकते हैं व 10 टन तक का वजन ले जा सकते हैं।

25 देशों की सेना करती है इस्तेमाल-

चिनूक हेलीकॉप्टर का निर्माण बोइंग कंपनी करती है। हालांकि ये 1962 से प्रचलन में हैं। लेकिन बोइंग ने समय-समय पर इनमें सुधार किया है, इसलिए आज भी करीब 25 देशों की सेनाएं इनका इस्तेमाल करती हैं। खुद अमेरिका इनका महत्वपूर्ण ऑपरेशनों में इस्तेमाल करता है। अमेरिका ने जब पाकिस्तान में घुसकर लादेन का खात्मा किया था तो चिनूक हेलीकॉप्टरों का ही इस्तेमाल किया था।

चिनूक की ख़ासियत –

  • यह रात में भी उड़ान भरने और ऑपरेशन करने में सक्षम होते हैं।
  • किसी भी मौसम में उपयोग किया जा सकता है।
  • सभी प्रकार के परिवहन में इस्तेमाल किया जा सकता है।
  • असैन्य कार्यों जैसे आपदा प्रबंधन और आग बुझाने में भी इस्तेमाल संभव।
  • इनमें विमान की भांति एकीकृत डिजिटल कॉकपिट मैनेजमेंट सिस्टम है।
  • इस हेलीकॉप्टर को अमेरिकी कंपनी बोइंग ने तैयार किया है।
  • 11 टन पेलोड और 45 सैनिकों का भार वहन करने की अधिकतम  क्षमता है चिनूक में।
  • घने कोहरे और धुंध में भी यह एक्शन लेने में सक्षम है। यह बेहद कुशलता से मुश्किल से मुश्किल जमीन पर भी ऑपरेट कर सकता है। इसे हर मौसम में हर दिन-हर मिनट ऑपरेट किया जा सकता है।
  • चिनूक 315 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से उड़ान भर सकता है।
  • यह मल्टी रोल, वर्टिकल लिफ्ट प्लेटफॉर्म वाला हेलीकॉप्टर है। जो सैनिकों और उनके हथियार, साजोसामान और ईंधन को लेकर एक जगह से दूसरी जगह जा सकता है।

इन देशों के पास है ‘चिनूक’

फरवरी 2007 में पहली बार नीदरलैंड इस हेलीकॉप्टर का पहला विदेशी खरीददार बना था। उसने CH-47F के 17 हेलीकॉप्टर खरीदे थे। इसके बाद 2009 में कनाडा ने CH-47F के 15 अपग्रेड वर्जन हेलीकॉप्टर खरीदे थे। दिसंबर 2009 में ब्रिटेन ने भी इस हेलीकॉप्टर में अपनी रुचि दिखाई और 24 हेलीकॉप्टर खरीदे। 2010 में ऑस्ट्रेलिया ने पहले सात और फिर तीन CH-47D हेलीकॉप्टर खरीदे थे। 2016 में सिंगापुर ने 15 हेलीकॉप्टर का ऑर्डर कंपनी को दिया था। अब तक कुल 26 देशों के पास ये हेलीकॉप्टर मौजूद है।