Home देश चौथा अंतरिक्ष महाशक्ति बना भारत, हमारा मकसद युद्ध नही शांति बनाए रखना...

चौथा अंतरिक्ष महाशक्ति बना भारत, हमारा मकसद युद्ध नही शांति बनाए रखना है: पीएम मोदी

146
0

भारत ने दुश्मन के उपग्रह को अंतरिक्ष में ही मार गिराने की क्षमता हासिल कर दुनिया की चौथी अंतरिक्ष महाशक्ति के रूप में अपना नाम दर्ज करा लिया है। बता दे कि, भारतीय मिसाइल ने आज प्रक्षेपण के तीन मिनट के भीतर ही लो अर्थ ऑर्बिट में एक सैटेलाइट को मार गिराया। एंटी सैटेलाइट (ए सैट) के द्वारा भारत अपने अंतरिक्ष कार्यक्रम को सुरक्षित रख सकेगा। इसरो और डीआरडीओ के संयुक्त प्रयास के द्वारा इस मिसाइल को विकसित किया गया है। इस अवसर पर आज राष्ट्र के नाम अपने संदेश में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि भारत ने एक महत्वपूर्ण कामयाबी हासिल की है।

उन्होंने कहा कि, भारत अंतरिक्ष के क्षेत्र में दुनिया के तीन देशों के बाद भारत चौथा देश बन गया है। हमारे वैज्ञानिकों ने स्‍पेस में 300 किमी दूर एलईओ ऑरबिट को मार गिराया है। यह एक पूर्व निर्धारित लक्ष्‍य था, इसे ए सेट मिसाइट द्वारा तीन मिनट में मार गिराया गया। मिशन शक्ति अत्‍यंत कठिन ऑपरेशन था। उन्होंने कहा कि अमेरिका, चीन और रूस के बाद भारत इस तरह की कामयाबी हासिल करने वाला चौथा देश बन गया है।


प्रधानमंत्री मोदी ने मिशन शक्ति से जुड़े वैज्ञानिकों को बधाई देते हुए कहा कि इस अभियान के जरिए भारत ने अंतरिक्ष विज्ञान में अहम कामयाबी हासिल की है। भारत हमेशा से शांति का पक्षधर रहा है। हमें ये बताने में खुशी है कि मिशन शक्ति सपनों को कामयाब बनाने के लिए महत्वपूर्ण अवसर लाया है। उन्‍होंने आगे कहा कि मिशन शक्ति अत्‍यंत कठिन ऑपरेशन था। भारत ने मिशन शक्ति को तीन मिनट में पूरा किया। एंटी सैटेलाइट ए सेट मिसाइल भारत की विकास यात्रा की दृष्टि से देश को नई दिशा देगा। यह किसी देश के विरुद्ध नहीं था। यह किसी भी अंतरराष्‍ट्रीय कानून या संधि समझौतों का उल्‍लंघन नहीं करता है। हमने आधुनिक तकनीक का उपयोग देश के 130 करोड़ नागरिकों की सुरक्षा के लिए किया है। एक मजबूत भारत का होना बेहद जरूरी है। हमारा मकसद युद्ध का माहौल बनाना नहीं है। उन्‍होंने कहा कि हमारा उद्देश्‍य शांति बनाए रखना है।

पीएम मोदी ने कहा कि, हम निसंदेह एकजुट होकर एक शक्तिशाली और सुरक्षित भारत का निर्माण करेंगे। मैं ऐसे भारत की परिकल्‍पना करता हूं जो अपने समय से दो कदम आगे की सोच सके और चलने की हिम्‍मत भी जुटा सके। सभी देशवासियों को आज की इस महान उपलब्धि के बहुत बधाई।

जाने क्या है मिशन शक्ति

भारत का मिशन शक्ति अंतरिक्ष में देश की संपदा को सुरक्षित रखना है। भारत ने इस शक्ति को पाने के लिए खूब मेहनत की। अग्नि 5 मिसाइल के सफल परीक्षण के समय ही कई विशेषज्ञों ने यह संभावना जताई थी, कि भारत के पास अंतरिक्ष में मार करने की क्षमता है। लेकिन, उस समय आधिकारिक रूप से इसकी पुष्टि नहीं की गई थी।साल 2007 में चीन ने जब अपने एक खराब पड़े मौसम उपग्रह को मार गिराया तब भारत की चिंता बढ़ गई थी। उस समय इसरो और डीआरडीओ ने संयुक्त रूप से ऐसी एक मिसाइल को विकसित करने की दिशा में अपने प्रयास तेज कर दिए थे।