Home देश एक्टर अक्षय कुमार ने लिया पीएम का इंटरव्यू, बोले कभी सोचा नहीं...

एक्टर अक्षय कुमार ने लिया पीएम का इंटरव्यू, बोले कभी सोचा नहीं था प्रधानमंत्री बनूंगा, जाने मुख्य अंश

114
0

देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के राजनीतिक जीवन के बारे में लोग काफी कुछ जानते हैं, लेकिन उनके व्यक्तिगत जीवन के बारे में शायद ही लोग ज्यादा कुछ जानते हो, राजनीति से हटकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के निजी जीवन से जुड़े अनसुने किस्सों के साथ लोकसभा चुनाव के बीच में बॉलीवुड एक्टर अक्षय कुमार ने खास पीएम का एक खास इंटरव्यू लिया। पीएम मोदी ने इस इंटरव्यू में अपनी जिंदगी के उन पहलुओं पर बातचीत की जो हर आम नागरिक उनके बारे में जानना चाहता है तो आइए आपको बताते है अक्षय कुमार से प्रधानमंत्री की खास बातचीत के कुछ मुख्य अंश –

अक्षय: क्या आपको आम खाना पसंद है या नहीं
प्रधानमंत्री : आम खाना पंसद है। जिस तरह परिवार के हालात थे, वहां आम खरीदने की क्षमता तो थी नहीं, इसलिए खेतों में चले जाते थे तो किसान खाने से रोकता नहीं था. पेड़ से पका हुआ आम खाना पसंद था। हालांकि अब आम खाने पर कंट्रोल करना पड़ता है।

अक्षय: कभी सोचा था आप पीएम बनेंगे

प्रधानमंत्री: कभी नहीं सोचा था कि देश का प्रधानमंत्री बनूंगा। जो नहीं सोचा था वहीं बना। मैं बचपन में सोचता था कि छोटी-मोटी कोई नौकरी करूंगा, मां खुश हो जाएगी। मैं सेना में जाना चाहता था।

अक्षय: क्या पीएम मोदी को गुस्सा आता है
प्रधानमंत्री : अफसरों के साथ मेरा दोस्ताना बर्ताव है। कभी-कभी उनको चुटकले सुनाता हूं। सभी दल एक परिवार की तरह एक-दूसरे के साथ जुड़े हैं। नाराज और गुस्सा मनुष्य के स्वभाव का हिस्सा होता है पर यह आपको खुद तय करना होता है कि आपको क्या करना है। लंबे समय तक मुख्यमंत्री रहा, प्रधानमंत्री रहा पर चपरासी से लेकर प्रिंसिपल सेक्रेटरी तक किसी पर गुस्सा निकालने का वक्त नहीं मिला। हां मैं सख्त जरूर हूं। मैं अनुशासित हूं लेकिन कभी किसी को नीचा नहीं दिखाता हूं।

अक्षय: अपनी मां के साथ क्यों नहीं रहते
प्रधानमंत्री:
मैंने बहुत कम आयु में घर-बार, परिवार छोड़ चुका हूं। ऐसे में उतना अटैचमेंट नहीं रहा। मन तो होता है। कुछ दिन मां को बुला लिया था। उनके साथ समय बिताया। मां ने भी कहा कि मेरे पीछे क्या समय खराब करते हो। मैं गांव में रहूंगी, वहां लोगों से बातें करूंगी। मां भी देखती है कि कितना बिजी शेड्यूल है। 

अक्षय: विपक्ष में आपके कोई दोस्त हैं
प्रधानमंत्री:
जी हां एक परिवार के रूप में सभी दल के लोग जुड़े हुए हैं। गुलाम नबी आजाद मेरे अच्छे दोस्त हैं। हालांकि मैं ये बोलूंगा तो चुनाव में नुकसान हो सकता है। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता दीदी मेरे लिए साल में एक-दो कुर्ते भी देती हैं। बांग्लादेश की प्रधानमंत्री भी उपहार भिजवाती हैं। और भी कई दोस्त हैं।

अक्षय: अलादिन का चिराग मिल जाए तो आपकी तीन चाहत क्या होगी

प्रधानमंत्री: समाजशास्त्री और शिक्षाविदों से आग्रह करूंगा कि आप कभी भावी पीढ़ी को अलादिन का चिराग वाली कहानी नहीं सुनाओ। मैं कहूंगा कि उन्हें मेहनत करना सिखाओ। यह कोई बाहर की फिलोसॉफी नहीं है। हमारे मूल में हैं। हम भारतीय मेहनतकश लोग होते हैं।