Home मध्य प्रदेश जबलपुर जबलपुर : एटीएम कार्ड का क्लोन तैयार कर रुपये निकालने वाले यूपी...

जबलपुर : एटीएम कार्ड का क्लोन तैयार कर रुपये निकालने वाले यूपी के 3 बदमाश गिरफ्तार

230
0

एटीएम का क्लोन तैयार करके रुपए निकालने वाले यूपी के तीन बदमाशों को जबलपुर पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है, जिन्होने दिनांक 02.12.18, 03.12.18 तथा 13.01.19 को जबलपुर शहर के विभिन्न क्षेत्रों के एटीएम से इस तरह की कई वारदातों को अंजाम दिया है। तीनो बदमाशों की गिरफ्तारी के बाद पुलिस ने आरोपियों के कब्जे से एटीएम, सफारी गाड़ी, लैपटॉप सहित अन्य उपकरण बरामद किए है, पुलिस अधिकारियों का कहना है कि गिरोह के तीन सदस्यों से और भी वारदातों का खुलासा होने की संभावना है। उक्त जानकारी एसपी निमेश अग्रवाल ने आज बुधवार को कंट्रोल रुम में आयोजित एक पत्रवार्ता में दी।

एसपी निमिष अग्रवाल ने आगे जानकारी देते हुए बताया कि बजरंग बहादुर उर्फ सावन सिंह पिता राजप्रताप सिंह उम्र 26 साल निवासी ग्राम करमचंद्रपुर थाना जेठवारा जिला प्रतापगढ यूपी, संदीप सिंह पिता अजय कुमार सिंह उम्र 26 साल निवासी ग्राम भावलपुर थाना मंधाता जिला प्रतापगढ़ यूपी व कुलदीप सिंह पिता रामआसरे सिंह उम्र 23 साल निवासी ग्राम आषापुर थाना जेठवारा जिला प्रतापगढ़ यूपी ने अपने साथियों के साथ मिलकर देश के विभिन्न जिलों में घूम-घूमकर बैंकों के एटीएम में पहुंचकर रुपए निकाल रहे ग्राहकों के एटीएम को रिकार्ड किया, इसके बाद उसका क्लोन बनाकर सारा रुपया निकाल लिया, लम्बे समय से इस तरह से ठगी की वारदातों को अंजाम दे रहे बदमाशों ने जबलपुर के अधारताल, गढ़ा, ओमती सहित अन्य क्षेत्रों में लगे एटीएम में पहुंचकर इस तरह की वारदातों को अंजाम दिया।

उन्होंने बताया कि पुलिस मामले में आरोपियों की तलाश में जुटी रही, इस दौरान पुलिस को इन तीनों बदमाशों के बारे में जानकारी लगी, जिसके बाद पुलिस की एक टीम ने प्रतापगढ़ यूपी पहुंचकर बदमाशों की तलाश शुरु कर दी और उन्हे हिरासत में ले लिया। इसके बाद इन्होंने पूछताछ में जबलपुर में इस तरह की वारदातों को अंजाम देने की बात स्वीकारी। पुलिस अधिकारियों को यह भी जानकारी दी कि आरोपियों के और भी साथी है जो इस तरह की वारदातों को अंजाम देने में माहिर है, पुलिस उनके बारे में भी पूछताछ कर रही है।

ऐसे देते थे वारदात को अंजाम-

एसपी निमिष अग्रवाल ने बताया कि ग्राहक जब एटीएम में जाता है तो आरोपी भी एटीएम पहुंचकर अपने मोबाईल से मौजूद स्पाई कैमरा की मदद से ग्राहक द्वारा डाले गए एटीएम पिन नम्बर को रिकार्ड कर लेते थे। उसके पश्चात इस रिकार्ड वीडियो को धीमी गति में देखकर लैपटाप में क्लोनिंग साफ्टवेयर व स्कैमर की मदद से रिकार्ड किए हुए एटीएम कार्ड नंबर का क्लोन तैयार कर लेते और क्लोन कार्ड से देश के किसी भी कोने में जाकर एटीएम से 11.45 बजे से 12 बजे तक एवं 12 बजे रात के बाद पैसे निकालने का काम करते थे। जिससे फरियादी को मैसेज रात में आने के कारण पता नहीं चलता था, इस प्रकार आरोपियों द्वारा अधिकतम 20-20 हजार रुपये के 02 ट्रांजेक्शन कर लेते रहे।

आरोपियों को पकडऩे में अहम भूमिका-

अंर्तराज्जीय गिरोह के तीन सदस्यों को हिरासत में लेने में ओमती थाना प्रभारी नीरज वर्मा, एसआई राकेश बघेल, नीरज नेगी, आरक्षक नितिन जोशी, उपेन्द्र गौतम, राजेश शर्मा, जयंत इनवाती, आदित्य कुमार, वंदित राजपूत, दुर्गेश दुबे, मनोज भालाधारे, राजा मिश्रा, चंद्रिका पडवार, धनन्जय सिंह, विजय शुक्ला, जितेन्द्र दुबे, बीरबल रजक, मोहित उपाध्याय, दीपक रघुवंशी, रविन्द्र तिवारी, गिरीश मेहरा सहित अन्य पुलिस कर्मियों की अहम भूमिका रही।