Home मध्य प्रदेश जबलपुर Jabalpur : 15 दिवसीय ‘पाठशाला’ समरकैम्प का हुआ रंगारंग समापन, कैम्प से...

Jabalpur : 15 दिवसीय ‘पाठशाला’ समरकैम्प का हुआ रंगारंग समापन, कैम्प से निखरी लोगो की आंतरिक प्रतिभा

128
0

जीवन में संघर्ष से भरे रास्ते तो आते रहते है, आप बस उन पर चलते जाइये मेहनत करते जाइये साथ ही अच्छे काम भी करिये सफलता ज़रूर मिलेगी। इस पाठशाला समर कैम्प में सबने मेहनत की इसका फल आपको जरूर मिलेगा। उक्त बातें मुख्य अतिथि कैप्टन भारद्वाज ने बुधवार को जबलपुर कॉलेज ऑफ कंप्यूटर एंड कम्युनिकेशन में आयोजित 15 दिवसीय पाठशाला समर कैम्प के समापन अवसर पर कही। दरअसल The Art Yard Present पाठशाला समरकैम्प का आयोजन 1 से 15 मई तक Paramount Creative Academy Association के तत्वावधान में किया गया, जिसमे सभी वर्ग के लोगो ने बढ़चढ़कर हिस्सा लिया साथ ही कला की अलग-अलग विधाओं में हिस्सा लेकर अपनी प्रतिभा को निखारा। जहाँ आपका अपना Fourthpiller.Com भी इस खास समर कैम्प का मीडिया पार्टनर रहा।

बुधवार को समापन अवसर पर Paramount Creative Academy की प्रियांंशी शर्मा ने अपने उध्बोधन में कहा कि हम अपनी लाइफ में काम को लेकर काफी व्यस्त होते है, लेकिन अगर आपको उसी बीच ऐसा कुछ प्लेटफार्म मिल जाये तो काफी कुछ सीखने को मिलता है। इसी दौरान उन्होंने आगे भी ऐसे समर कैम्प कराने को कहा ताकि लोगो को सीखने व एडुकेशन मिलती रहे। वही इससे पहले समापन अवसर पर कार्यक्रम की शुरुआत दीप प्रज्वलित कर की गई। इसके बाद कार्यक्रम का रंगारंग समापन किया गया।

समापन अवसर पर स्टूडेंट्स की पेंटिंग से सजा हॉल
स्टूडेंट्स ने दिखाया अपने डान्स का जलवा

ट्रेनर्स हुए सम्मानित

इस 15 दिवसीय समर कैम्प को सफल बनाने व लोगो की प्रतिभा को निखारने में ट्रेनर्स का अहम योगदान रहा। कार्यक्रम के समापन अवसर पर सभी ट्रेनर्स को सम्मानित किया गया। जिसमे कार्यक्रम के आयोजक प्रकाम सिंह राजपूत, कोर्डिनेटर साहिबा अरोरा, राशि आहूजा , मैनेजर आयुषी अरोरा, ट्रेनर्स आकांक्षा सोनकर, श्रीयांश पाठक, आयुष श्रीवास्तव ,पूजा सिंह, पल्ल्वी दत्ता, पल्ल्वी सिंह, गरिमा सोनी, अनुज जैन, राशि जैन, विनय वर्मा को सम्मानित किया गया।

प्लेटफार्म देना व भविष्य में आने वाली चुनौतियों से अवगत कराना था मकसद

समर कैम्प के सफल आयोजन के बाद आयोजक प्रकाम सिंह राजपूत व सभी टीम मेंबर्स ने बताया कि इस 15 दिवसीय पाठशाला से लोगों को अपने अंदर छुपी आंतरिक प्रतिभा का पता चल पाया और उन्हें नये आयामों के बारे में भी जानकारी हुई। पाठशाला का मक़सद विभिन्न प्रतिभाओं को सही मार्गदर्शन कर उन्हें एक सही प्लेटफार्म देना और भविष्य में आने वाली चुनौतियों से अवगत कराना था, जो कि पाठशाला ने किया। आर्ट यार्ड प्रोडक्शन्स आगे भी ऐसी वर्कशॉप्स और ऐसे कार्यक्रम कराते रहेगा।