Home बॉलीवुड Movie Review: ईद के खास मौके पर आई सलमान खान की फ़िल्म...

Movie Review: ईद के खास मौके पर आई सलमान खान की फ़िल्म “भारत” में है रोमांस, रोमांच और इमोशन

153
0

मूवी रिव्यू: भारत
अभिनय: कटरीना कैफ, सलमान खान, सुनील ग्रोवर, जैकी श्रॉफ, सोनाली कुलकर्णी, दिशा पटानी आदि।
निर्देशक: अली अब्बास जफर
निर्माता: टी सीरीज, रील लाइफ प्रोडक्शंस, सलमान खान फिल्म्स
रेटिंग: 3 स्टार

ईद के खास मौके पर बॉलीवुड एक्टर सलमान खान ने अपने फैंस को ईदी देते हुए फ़िल्म भारत के साथ बॉक्सऑफिस पर धमाकेदार इंट्री की है। वैसे तो ईद और सलमान खान का नाता हमेशा खास ही रहता है लेकिन इस बार कुछ ज्यादा खास है सलमान खान, कैटरीना कैफ, दिशा पाटनी स्टार फिल्म ‘भारत’ ईद के मौके पर सिनेमाघरों में रिलीज हो गई है। इस फिल्म में सलमान , कैटरीना कैफ और दिशा के अलावा और सुनील ग्रोवर, नोरा फतेही, जैकी श्रॉफ भी लीड रोल में है। आपको बता दे कि, सलमान खान ने अपने फैंस को ऐसी ईदी दी है जिसमें प्यार है, रोमांस है, रोमांच है, इमोशन हैं। इस फिल्म में दर्शकों के लिए वह सब कुछ है जो भाई के चाहने वाले उनकी फिल्मों से उम्मीद करते हैं।

कहानी


भारत फिल्म की कहानी साल 2014 में रिलीज हुई साउथ कोरियन फिल्म ओड टू माय फादर का हिंदी रीमेक है। इस फिल्म में देश के बंटवारे से शुरू हुई कहानी को दिखाया गया है। फिल्म में 1947 से 2010 तक के वक्त को जीवंत किया गया है। इसमें सलमान की उम्र के अलग-अलग पड़ावों को बताया गया है। फ़िल्म की कहानी शुरू होती है 2010 से, जहां सलमान खान (भारत) उम्रदराज शख्‍स के रोल में नजर आते हैं। बाजार में उसकी राशन की दुकान होती है। यहां भारत का जिगरी दोस्‍त विलायती (सुनील ग्रोवर) भी होता है। यहां एक डीलर दुकान बेचकर मॉल बनाना चाहता है, जिसे भारत सबक सिखाकर भगा देता है। अगले दिन भारत का जन्‍मदिन होता है, जिसे वह हर साल की तरह अटारी स्‍टेशन पर रेल के साथ भागते हुए केक काटता है। हालांकि उसका असल जन्‍मदिन इस दिन नहीं होता है। वह इस दिन रेल से भारत आया था। इसके बाद कहानी फ्लैशबैक में जाती है।खैर अब भारत फिल्म की पूरी कहानी जानने के लिए आपको फिल्म देखनी पड़ेगी।

निर्देशन

इस फिल्म को अली अब्बास जफर ने डायरेक्ट किया है। इससे पहले वे सलमान के साथ ‘सुल्तान’ और ‘टाइगर जिंदा है’ बना चुके हैं। दोनों ही फिल्में बॉक्स ऑफिस पर ब्लॉकबस्टर रही थीं। ‘भारत’ को देखकर भी ऐसा ही कुछ लग रहा है। फिल्म में अलग-अलग वक्त को दिखाया गया है। एक वक्त से दूसरे में जाने में डायरेक्टर ने बहुत अच्छा काम किया है। इसे देखकर आपको ऐसा बिल्कुल नहीं लगेगा कि एक सीन के बाद दूसरा सीन एकदम से कैसे आ गया है। फिल्म की बारीकियों पर भी ध्यान दिया गया है।