Home मध्य प्रदेश जबलपुर विश्व रक्तदाता दिवस 2019: शहर के समाजसेवी व उनकी संस्था निरन्तर बचा...

विश्व रक्तदाता दिवस 2019: शहर के समाजसेवी व उनकी संस्था निरन्तर बचा रही लाखों जिंदगियां

91
0

जबलपुर। रक्तदान को महादान और जीवनदान भी कहा जाता है, एक रक्तदान करने से न जाने रोजाना कितनी ही जिंदगियां बच जाती है। और वही न जाने कितने पीडित होते है, जिनको समय पर रक्त न मिलने की वजह से वे अपनी ज़िदगी गंवा बैठते है। इसी को ध्यान में रखते हुए प्रतिवर्ष 14 जून को विश्व रक्तदान (रक्तदाता) दिवस मनाया जाता है। विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा यह दिवस मनाया जाता है। आपको बता दे कि इस दिवस का मुख्य उद्देश्य रक्तदान के प्रति लोगो को जागरूक करना एवं उनकी भ्रांतिया दूर करना है। विश्व रक्त दाता दिवस 2019 दुनिया भर के लोगों द्वारा 14 जून शुक्रवार आज मनाया जाएगा। विश्व रक्तदाता दिवस 2019 का विषय “सभी के लिए सुरक्षित रक्त” है। थीम उन सभी रोगियों के लिए रक्त की पर्याप्त मांग को पूरा करने के लिए दुनिया भर में सभी सरकारों, हेल्थकेयर संस्थानों और ब्लड बैंकों को कार्रवाई के लिए एक कॉल है, जिनके लिए रक्त आधान की आवश्यकता होती है।

रक्तदान दिवस की शुरुआत

विश्व रक्तदान दिवस की शुरुआत रक्तदान को बढ़ावा देने व लोगो को जागरूक करने के लिए की गई थी, यह हर वर्ष 14 जून को मनाया जाता है विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा इस दिन को रक्तदान दिवस के रूप में घोषित किया गया है। वर्ष 2004 में स्थापित इस कार्यक्रम का उद्देश्य सुरक्षित रक्त रक्त उत्पादों की आवश्यकता के बारे में जागरूकता बढ़ाना और रक्तदाताओं के सुरक्षित जीवन रक्षक रक्त के दान करने के लिए उन्हें प्रोत्साहित करते हुए आभार व्यक्त करना है।

शहर में है ऐसे कई फाउंडेशन जो बचा रहे जिंदगियां

संस्कारधानी में ऐसे कई लोग है जो कि समाज में निरंतर ब्लड डोनेट कर अनोखी मिशाल पेश कर रहे है। साथ ही शहर में कई समाज सेवी संस्थाएं है जो न जाने कितनी ही जिंदगियां रोजाना बचा रही है व लगातार रक्तदान व पीड़ित मानवता की सेवा में जुटी रहती है। हम है न फाउंडेशन, ह्यूमैनिटी ऑर्गनाइजेशन, माँ नर्मदा रक्तदान सेवा समिति, जबलपुर ब्लड ग्रुप, रेड नेक्टर ग्रुप, हैल्पिंग हैंड्स, दिशा वेलफ़ेयर आदि संस्था निरतंर रक्तदान के प्रति समाज में लोगो को जागरूक कर रही है साथ ही रक्त भी उपलब्ध करवाती है।

थैलेसिमिया बच्चों को उपलब्ध कराते है रक्त

हम है न फाउंडेशन की ऋचा चौकसे ने बताया कि उनकी संस्था निरंतर रोजाना जो थैलेसीमिया से पीड़ित बच्चे है जिनको लगातार रक्त की आवश्यकता होती है उनके लिए रक्त की पूर्ति करती है, साथ ही साथ समय समय पर रक्तदान शिविर कर लोगो को जागरूक करती है।

निःशुल्क रक्तदान कर रही है माँ रेवा समिति

माँ रेवा रक्तदान सेवा समिति के विकास शुक्ला ने बताया कि उनकी संस्था निरन्तर 3 वर्षो से रोजाना 4 से 5 यूनिट निःशुल्क रक्तदान करती आ रही है, व लोगो की भ्रांतियां व डर दूर रक्तदान के लिए जागरूक करती है।

खुद के साथ-साथ पूरा परिवार करता है रक्तदान

समाजसेवी सरबजीत सिंह नारंग ने बताया कि इंसान के अंदर रक्तदान का भाव होना चाहिए। हमेशा पीड़ित मानवता के लिए आगे आना चाहिए। उन्होंने बताया कि वे नियमित रूप से अपने परिवार के साथ रक्तदान करते है। आपको बता दे कि सरबजीत सिंह 95वे बार रक्तदान कर चुके है

“सक्षम” के माध्यम से करते है रक्तदान

समाजसेवी हिरेन्द्र मौर्या ने बताया कि उनकी संस्था ह्यूमैनिटी ऑर्गनाइजेशन सक्षम विंग द्वारा बल्ड डोनेशन के सारे काम देखती है, सक्षम के माध्यम से रक्तदान उपलब्ध कराना, थैलेसीमिया से पीड़ित बच्चों की मदद करना, अर्जेंट ब्लड जैसे काम करती है, हिरेन्द्र न बताया उन्होंने कल ही ब्लड डोनेट किया है साथ ही नियमित रूप से हर तीन महीने में रक्तदान करते है।

! रक्तदान के फायदे !

  • रक्तदान करने से हार्ट अटैक की बीमारी दूर होती है।
  • कैंसर जैसी बीमारी का खतरा कम होता है।
  • डॉक्टर्स का मानना है कि रक्तदान से खून पतला होता है जो कि ह्रदय के लिए अच्छा होता है।
  • रक्तदान करने से आयरन की मात्रा नियंत्रण होती है।
  • रक्तदान करने से शरीर मे स्फुर्ति व सौन्दर्य में निखार आता है।
  • नियमित रक्तदान करने से मोटापा कम होता है।
  • 18 साल से अधिक उम्र के लोग जिनका वजन 50 किलोग्राम या उससे अधिक है वह रक्तदान कर सकते है।