Home देश नही थम रहा चमकी बुख़ार का प्रकोप, बिहार में अब तक 150...

नही थम रहा चमकी बुख़ार का प्रकोप, बिहार में अब तक 150 हुआ मौतों का आंकड़ा, जाने बचाव के तरीके

74
0

बिहार के मुज्जफरनगर में चमकी बुखार एक्यूट इन्सैफेलाइटिस सिंड्रोम (एईएस) का प्रकोप थमने का नाम नही ले रहा है, चमकी बुखार के बढ़ते प्रकोप से अब तक मुज्जफरनगर में सबसे ज्यादा 122 बच्चो की मौत हो चुकी है। वही इस बीमारी से राज्यभर में हुई मौतों का आंकड़ा लगभग 150 बताया जा रहा है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार बिहार के 16 जिले इस लाइलाज बीमारी के चपेट में आ चुके हैं, मुजफ्फरपुर जिले में सबसे अधिक अब तक 122 मौतें हुई हैं।  

वहीं, देश में स्वास्थ्य संबंधी खराब स्थिति को देखते हुए राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (NHRC) केंद्र ने प्रेस रिलीज कर सभी राज्यों को नोटिस भेजा है। राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने चिकित्सकों, अधिकारियों वाली अपनी टीमों को तथ्यान्वेषी जांच के लिए संवेदनशील राज्यों में अस्पतालों का दौरा करने का भी निर्देश दिया है।।

क्या है एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम

एईएस एक दिमागी बुखार है जो कि वायरल संक्रमण की वजह से फैलता है। यह विशेष रूप से गंदगी से पैदा होता है। जैसे ही यह हमारे शरीर के सपंर्क में आता है वैसे ही यह दिमाग की ओर चला जाता है। यह बीमारी ज्यादातर 1 से 14 साल के बच्चे एवं 65 वर्ष से ऊपर के लोग इसकी चपेट में आते हैं।

चमकी बुखार के लक्षण –

डॉक्टरों एवं विशेषज्ञ का कहना है कि इस बीमारी से बुखार, सिरदर्द, ऐंठन, उल्टी और बेहोशी जैसी समस्याएं होती हैं। शरीर निर्बल हो जाता है। डॉक्टरों के अनुसार, कुछ रोगी लकवा के भी शिकार हो जाते हैं।

ऐसे बचे बीमारी से –

एक्यूट इंसेफेलाइटिस की बीमारी से बचने के लिए समय से टीकाकरण करवाना चाहिए। अपने आसपास साफ-सफाई रखे। गंदे पानी का उपयोग से बचे, इस बीमारी से बचने के लिए मच्छरों से बचाव करें और घरों के आस पास पानी न जमा होने दें। बारिश के मौसम में बच्चों को बेहतर खान-पान में ध्यान दे।