Home मध्य प्रदेश जबलपुर रानी दुर्गावती द्वारा सामाजिक समरसता के क्षेत्र में किए गए...

रानी दुर्गावती द्वारा सामाजिक समरसता के क्षेत्र में किए गए कार्यों से युवाओं को प्रेरणा लेना चाहिए: कुलपति प्रो. मिश्र

27
0

जबलपुर/रादुविवि। वीरांगना रानी दुर्गावती ऐसी चिंगारी रही हैं जिन्हांने गोंडवाना साम्राज्य के स्वाभिमान की रक्षा के लिए अपने प्राणों का बलिदान तो दे दिया परंतु किसी भी प्रकार का समझौता न करते हुए मुगलों के आगे कभी सिर नहीं झुकाया। साथ ही रानी दुर्गावती द्वारा तत्समय गोंडवाना साम्राज्य की सामाजिक समरसता के क्षेत्र में किए गए कार्यों से युवाओं को प्रेरणा लेनी चाहिए। उक्त विचार रादुविवि कुलपति प्रो कपिल देव मिश्र ने रानी दुर्गावती विश्वविद्यालय में सोमवार को “रानी दुर्गावती बलिदान दिवस” के अवसर पर विवि के कॉउंसिल हॉल में आयोजित कार्यक्रम में व्यक्त किए।

कार्यक्रम में मुख्य अतिथि भगवत सिंह चौहान ने वीरांगना रानी दुर्गावती द्वारा गोंडवाना साम्राज्य के विकास में कृषि एवं जल संरक्षण की योजनाओं की वर्तमान में प्रासंगिकता पर प्रकाश डाला। वही इससे पहले कुलसचिव प्रो. कमलेश मिश्र ने वीरांगना रानी दुर्गावती के वीरता, शैर्य एवं बलिदान को बहुत ही रोचक ढंग से विस्तारपूर्वक प्रस्तुत किया। कार्यक्रम का संचालन प्रो. विवेक मिश्र ने किया तथा आभार परीक्षा नियंत्रक प्रो. राकेश बाजपेयी ने व्यक्त किया।

कार्यक्रम में इनका हुआ सम्मान-

कार्यक्रम में रानी दुर्गावती बलिदान दिवस के अवसर पर राज्य स्तरीय युवा उत्सव में सहयोग देने वाले विभिन्न समितियों के सदस्यों, एन.एस.एस. के स्वयंसेवकों एवं पत्रकारो का भी सम्मान किया गया। इस अवसर पर प्रो. अखिलेश कुमार पाण्डेय, संकायाध्यक्ष प्रो. भरत कुमार तिवारी, प्रो. राजीव दुबे, प्रो. एस.एन. मिश्र, डॉ. ए.के. गिल, एन.एस.एस. समन्वयक डा. अशोक मराठे, सांस्कृतिक प्रभारी, डॉ. आर.के. गुप्ता, डॉ. सुनील देशपाण्डे, डॉ. अरूणा, डॉ. देवांशु गौतम, डॉ. प्रीति श्रीवास्तव, डॉ. वर्षा अलगावे, आनंद वर्मा, बृजेन्द्र चतुर्वेदी, मंगलू, विश्वविद्यालय के शिक्षक, अधिकारी, कर्मचारी, शिक्षण विभागों के छात्र-छात्राएं एवं एन.एसएस. के स्वयंसेवकों की उपस्थिति रही।